Champions Portal Kya hai चैंपियंस पोर्टल क्या है

champions portal, msme problem solving platform, champions portal kya hai, champions portal ka uddeshya,चैंपियंस पोर्टल, champions portal ke labh, champions portal features, champions portal shikayat darj karna, kendriya yojana, msme department scheme, pradhan mantri modi yojana,

champions portal pics

Champions Portal Kya hai चैंपियंस पोर्टल क्या है

कोरोना महामारी पर नियंत्रण के लिए किये गए लॉकडाउन की वजह से देश की अर्थव्यवस्था को भारी नुकसान पहुँचा है। वर्तमान परिस्थितियों में देश की सूक्ष्म, लघु एवं माध्यम उद्योग को आर्थिक घाटा से दो -चार होना पड़ रहा है। एमएसएमई को आर्थिक संकट से उबारने के लिये प्रधानमंत्री मोदी द्वारा 1 जून 2020 को CHAMPIONS Portal लांच किया गया है। चैंपियंस से अभिप्राय Creation and Harmonious Application of Morden Processes for Increasing the Output and National Strength है। इस पोर्टल के माध्यम से देश में स्थित एमएसएमई की कच्चा माल , आयत -निर्यात, वर्कर्स, व्यापार ऋण से सम्बंधित सभी समस्याओं का समाधान निर्धारित समयावधि के अन्दर किया जाएगा। इसके अतिरिक्त नए उद्योगों को शुरू करने के लिए उद्योग रजिस्ट्रेशन, डाक्यूमेंट्स तैयार करवाने, ऋण प्राप्त करने आदि में आने वाली मुश्किलों का निवारण किया जाएगा।

एमएसएमई उद्योगो का देश की अर्थव्यवस्था में अहम भूमिका है। देश की कुल घरेलू  उत्पादों की पूर्ति में लगभग 29% का योगदान एमएसएमई उद्योगो का है। हाल हीं में देश की अर्थव्यवस्था को पुनः पटरी पर लाने के लिए प्रधानमंत्री मोदी द्वारा आत्मनिर्भर भारत आर्थिक पैकेज की घोषणा की गयी थी। इस पैकेज के अंतर्गत वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण द्वारा 13 मई 2020 को एमएसएमई के निवेश की सीमा बढ़ाने की घोषणा की गयी है। अब सूक्षम उद्योगों के निवेश की सीमा रु 1 करोड़ और टर्नओवर रु 5 करोड़ होगी। लघु उद्योगों के लिए निवेश की सीमा रु 10 करोड़ और टर्नओवर रु 50 करोड़ तथा माध्यम उद्योगों के निवेश की सीमा 20 करोड़ और टर्नओवर रु 250 करोड़ तय की गयी है। आइये जाने एमएसएमई के लिए चैंपियंस पोर्टल कैसे सहायक सिद्ध होगा।

Champions Portal ka Uddeshya चैंपियंस पोर्टल का उद्देश्य

  • एमएसएमई उद्योग को शुरू करने में आने वाली समस्याओं का सात दिन के अन्दर समाधान करना।
  •  वर्तमान महामारी काल की कठिन परिस्थितयों का सामना करने में एमएसएमई उद्योगो का हर संभव मदद प्रदान करना।
  • चैंपियंस पोर्टल उद्योगों के लिए बाज़ार में उत्पादों की माँग के नए अवसर की पहचान करने एवं अन्तराष्ट्रीय बाज़ार उत्पादों की पूर्ति आदि कार्य योजना बनाने में सहयोग प्रदान करेगा। जैसे – वर्तमान समय की माँग को देखते हुए महामारी से बचाव के उपकरण मास्क, पीपीटी किट (personal protection equipment), सैनिटाईजर के उत्पादन और राष्ट्रीय -अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर निर्यात करने से सम्बंधित समस्याओं को हल करने में मदद प्रदान करना है।
  • इस पोर्टल के माध्यम से एमएसएमई उद्योगों के लिए ऋण, रजिस्ट्रेशन, उद्योग आधार आदि डाक्यूमेंट्स से सम्बंधित कार्यों की गति में तेजी लाना है। जिससे एमएसएमई उद्योग की स्थिति राष्ट्रीय और अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर मजबूत हो सके।

Champions Portal Benefits चैंपियंस पोर्टल से लाभ

  • एमएसएमई उद्यमियों के उद्योग को स्थापित करने, ऋण प्राप्त करने, माल निर्यात करने, वर्तमान महामारी संकट काल में वर्कर्स की कमी को पूरा करने आदि से सम्बंधित समस्या का समाधान करने में सहयोग करेगा।
  • किसी भी सरकारी विभाग में उद्योग से सम्बंधित डाक्यूमेंट्स बनाने में देरी होने की शिकायत, उद्योग को बढ़ाने के लिए बैंक ऋण, एनओसी, लाइसेंस आदि  बनवाने में समस्या आने पर इस पोर्टल पर शिकायत दर्ज किया जा सकता है। इस पोर्टल पर दर्ज शिकायत 7 दिनो के अन्दर हल की जायेगी।
  •  चैंपियंस पोर्टल को आटोमेटिक इंटेलिजेंस (AI), डाटा विश्लेषण (Data Analytics) और मशीन लर्निंग (machine learning) जैसी नयी तकनीक से जोड़ा गया है। जिससे एमएसएमई से सम्बंधित किसी भी विभाग के पोर्टल पर की गयी शिकायत आटोमेटिक चैंपियंस पोर्टल पर दिखने लगेगी। पोर्टल की इस विशेषता के कारण एमएसएमई से सम्बंधित सभी प्रकार की शिकायतो का डेटा एक प्लेटफॉर्म पर एकत्रित रहेगा। जिससे शिकायत निवारण करने में सुविधा के साथ -साथ समय की भी बचत होगी।
  • एमएसएमई की समस्याओं का समाधान करने के लिए चैंपियंस पोर्टल का मुख्य कण्ट्रोल रूम दिल्ली में बनाया गया है।
  • चैंपियंस पोर्टल को  (CPGRAMS)  केन्द्रीय लोक शिकायत निवारण और निगरानी प्रणाली से जोड़ा गया है। इस पोर्टल को हब एंड स्पोक्स प्रणाली के आधार पर विभिन्न राज्यों के एमएसएमई मंत्रालय के नियंत्रण कक्ष के जोड़े जाने की योजना है। वर्तमान में 66 राज्य स्तरीय के एमएसएमई मंत्रालय के कार्यालय और संस्थानों में कण्ट्रोल रूम स्थापित किये गए हैं। इन सभी को चैंपियंस पोर्टल का मुख्य कण्ट्रोल रूम से जोड़ा गया है। इससे देश भर के एमएसएमई की समस्याओं का निवारण करने की गति तेज करने में मदद मिलेगी।

एमएसएमई से सम्बंधित समस्याओं के समाधान के लिए चैंपियंस पोर्टल लिंक पर क्लिक करिए

अधिक जानकारी के लिए विडियो देखिये For more information watch video below:

अन्य योजनाये पढ़िए हिंदी में :

ईपीएफ बैलेंस चेक करने की प्रक्रिया

सुकन्या समृद्धि योजना के नियमों में बदलाव

छत्तीसगढ़ गोधन न्याय योजना

34 Comments

  1. Adeline Bababikov October 2, 2020
  2. Ida Favela September 29, 2020
  3. Jerald Larner September 12, 2020
  4. website hosting services September 5, 2020
  5. cheap flights August 25, 2020

Leave a Reply