भारतीय रेलवे की डोर टू डोर डिलीवरी सर्विस Door To Door Delivery Service Of Indian Railways

door to door delivery service, door to door goods delivery service, railway door to door luggage delivery service, डोर टू डोर डिलीवरी सर्विस, रेलवे की डोर टू डोर डिलीवरी सर्विस, railway door to door service benefits, Implementation of door to door delivery service, railway scheme, kendriya yojana, indian railway door step service scheme

भारतीय रेलवे की डोर टू डोर डिलीवरी सर्विस Door To Door Delivery Service Of Indian Railways

कोरोना महामारी संक्रमण के कारण रेलवे को आर्थिक नुकसान का सामना करना पड़ा है। गौरतलब है कि रेलवे की आय का स्त्रोत रेल यात्रियों के अतिरिक्त माल ढुलाई और पार्सल भी है। कोरोना संक्रमण के कारण रेलवे की इन सभी सर्विस से प्राप्त आय में कमी आई है। अपने नुकसान की भरपाई के लिए भारतीय रेलवे ने मालगाड़ियों में बुक सामानों एवं पार्सल की होम डिलीवरी सर्विस को चालू करने की प्रक्रिया पर कार्य करना शुरू कर दिया है। वर्तमान में रेलगाड़ियों में बुक्ड माल के पार्सल की डिलीवरी लेने के लिए स्टेशन परिसर में स्थित पार्सल ऑफिस जाना पड़ता है। रेलवे की डोर टू डोर पार्सल डिलीवरी सर्विस शुरू होने पर नागरिकों को बुक्ड सामान की डिलीवरी घर के पते पर पहुँचा दी जायेगी। इस सर्विस के बदले रेलगाड़ियों में सामान बुकिंग के समय हीं रेल किराया के साथ पार्सल की होम डिलीवरी के भी शुल्क का भुगतान करना होगा। आइये जाने योजना की जानकारी।

रेलवे की डोर टू डोर डिलीवरी सर्विस के लाभ  Railway Door To Door Delivery Service Benefits

  • मालगाड़ियों में बुक्ड सामान के पार्सल की डिलीवरी रेलवे प्लेटफार्म से 100 किलोमीटर के दायरे में किया जा सकता है।
  • रेलवे द्वारा छोटे व्यापारियों एवं उद्यमियों को 100 किलोमीटर के कम दूरी की माल ढुलाई की बुकिंग पर पार्सल डिलीवरी के किराए में छूट दे सकता है। रेलवे की इस निति से छोटे व्यापारी एवं उद्यमी रेलवे में माल बुकिंग करने को प्रोत्साहित होंगे।
  • रेलवे पार्सल डोर टू डोर सर्विस के संचालन के लिए ट्रांसपोर्ट वाहनों से एग्रीमेंट करेगा। जिससे मॉल के पार्सल को दिए गए पते पर पहुँचाना संभव होगा।
  • रेलवे द्वारा माल के पार्सल की होम डिलीवरी करते समय ग्राहकों से फीडबैक लिया जाना सुनिश्चित किया जायेगा। जिससे ग्राहकों की असुविधा एवं राय जानने में मदद मिलेगी। फलस्वरूप होम डिलीवरी सेवा में सुधर करना संभव हो सकेगा।

रेलवे की डोर टू डोर डिलीवरी सर्विस का क्रियान्वयन Implementation of door to door delivery service of Railways 

रेलवे के मुख्य जन संपर्क अधिकारी अजित कुमार सिंह के अनुसार डोर टू डोर पार्सल सर्विस का उद्देश्य रेल गाड़ियों के माल ढुलाई सेवा में वृद्धि करना है। इस लक्ष्य को पूरा करने के लिए भारतीय रेलवे माल गाड़ियों की संख्या में वृद्धि करने के बिजनेस प्लान पर कार्य कर रही है। योजना के क्रियान्वयन के लिए बिजनेस डेवलपमेंट यूनिट का गठन किया गया है। अब जोनल और मंडलीय स्तर पर रेलवे बिजनेस डेवलपमेंट यूनिट बनाने की प्रक्रिया पर कार्य किया जा रहा है। इन बिजनेस यूनिट्स में वाणिज्य परिचालन सहित चार विभागों के अधिकारीयों की नियुक्ति की जायेगी। जिनके देख- रेख में रेलवे की नयी बिजनेस योजना डोर टू डोर पार्सल डिलीवरी सर्विस कार्य संपन्न किया जाएगा।

लेख की जानकारी के स्त्रोत के लिए लिंक पर क्लिक करिए।

अधिक जानकारी के लिए विडियो देखिये For more information watch video below:

अन्य योजनायें पढ़िए हिंदी में :

दिल्ली सरकार की लेबर कार्ड डोर स्टेप सर्विस योजना

फाइव स्टार विलेज स्कीम क्या है

छत्तीसगढ़ स्कूली बच्चों की मुफ्त नाश्ता योजना

 

Leave a Reply