UP Pandit Deendayal Upadhyaya Dairy Project of Six Cows / Buffalo उ.प्र. पंडित दीनदयाल उपाध्याय छः गाय /भैंस की डेयरी परियोजना

Uttar Pradesh 6 Gaay/Bhains Wali Dairy Pariyojana,उ.प्र. पंडित दीनदयाल उपाध्याय छः गाय /भैंस की डेयरी परियोजना , U.P. Pandit Deendayal Upadhyaya Dairy Project of Six Cows / Buffalo , 6 Gaay/Bhains Wali Dairy Pariyojana Mein Aavedan ki Patrta, Uttar Pradesh 6 Gaay/Bhains Wali Dairy Pariyojana  ke Liye Documents,UP 6 Gaay/Bhains Wali Dairy Pariyojana Loan  Proces, 6 Gaay/Bhains Wali Dairy Pariyojana Mein Aavedan Process

deendayal upaadhyay dairy yojana pics

UP Pandit Deendayal Upadhyaya Dairy Project of Six Cows / Buffalo उ.प्र. पंडित दीनदयाल उपाध्याय छः गाय /भैंस की डेयरी परियोजना

उत्तर प्रदेश की कामधेनु योजना का नाम बदल कर पंडित दीनदयाल उपाध्याय परियोजना कर दिया गया है। योगी सरकार द्वारा इस परियोजना की घोषणा 2018 में की गयी है। नयी योजना पंडित दीनदयाल उपाध्याय के अंतर्गत योजना छः गाय /भैसों वाली डेयरी उद्योग की स्थापना को प्रोत्साहन दिया जाएगा। ताकि अधिक से अधिक किसान योजना का लाभ उठा सके। ये परियोजना केंद्र सरकार के मिशन किसानों की आय वर्ष 2022 तक दुगुनी करने के लक्ष्य में भी सहायक सिद्ध होगी। छोटी इकाई की डेयरी के स्थापना की योजना को आरम्भ करने के पीछे सरकार का उद्देश्य लघु एवं माध्यम किसानों को लाभ पहुँचाना है। इससे प्रदेश में किसानों की आय में वृद्धि के साथ ही रोज़गार के नए अवसर उपलब्ध होंगे। छः पशुओं से युक्त डेयरी इकाई के लिए रूपए  4 लाख राज्य सरकार द्वारा ऋण दिया जाएगा। ऋण की राशि का 15 प्रतिशत यानि 60,000 रूपए किसान को देना होगा। शेष  रूपए 3,40,000 बैंकों से ऋण प्राप्त होगा। आइये जाने इस योजना की पूरी जानकारी।

Uttar Pradesh 6 Gaay/Bhains Wali Dairy Pariyojana ka uddeshya    उ.प्र. छः गाय /भैंस वाली डेयरी परियोजना का उद्देश्य

  • राज्य सरकार का उद्देश्य परियोजना के पहले चरण में 822 ब्लोक में छः डेयरी उधोग स्थापित करना है। इस प्रकार प्रदेश में कुल 4932  छः दुधारू गाय /भैंसों वाली डेयरी इकाई की स्थापना हो सकेगी।
  • इन दुग्ध इकाईयों से  प्रतिदिन लगभग तीन लाख लीटर दूध का उत्पादन होने की लक्ष्य संभावना है।
  • इसके अतिरिक्त इन दुधारू पशुओं से लगभग 12 हज़ार अच्छी नस्ल के गाय /भैंस के बच्चे पैदा होने की संभावना है।
  • प्रदेश के सभी वर्ग के किसानों को योजना का लाभ पहुँचाना।
  • छोटी -छोटी दुग्ध इकाइयों से राज्य में दुग्ध उत्पादन की मात्रा में वृद्धि होने के साथ हीं नए रोज़गार का सृजन होगा।

Uttar Pradesh 6 Gaay/Bhains Wali Dairy Pariyojana Mein Aavedan ki Patrta    उ.प्र. छः गाय /भैंस वाली डेयरी परियोजना में आवेदन की पात्रता 

  • आवेदक को कक्षा 8 पास होना अनिवार्य है।
  • किसान की आयु 18 वर्ष से 40 वर्ष के बीच होनी चाहिए।
  • डेयरी स्थापना के लिए आवेदक के पास स्वयं की आधी एकड़ भूमि होनी चाहिए।
  • आवेदक किसान को उत्तर प्रदेश राज्य का मूल निवासी होना चाहिए।
  • राज्य में संचालित कामधेनु या अन्य किसी परियोजना हेतु ऋण नहीं लिया होना चाहिए।
  • आवेदक के नाम से बैंक अकाउंट होना चाहिए।

Uttar Pradesh 6 Gaay/Bhains Wali Dairy Pariyojana Mein Aavedan ke Documents    उ.प्र. छः गाय /भैंस वाली डेयरी परियोजना में आवेदन के दस्तावेज़

  • शिक्षा प्रमाण पत्र के तौर पर आखिरी पास कक्षा की अंकतालिका /प्रमाण पत्र
  • आयु प्रमाण पत्र के तौर पर आधार कार्ड /पैन कार्ड
  • भूमि के दस्तावेज़
  • निवास प्रमाण पत्र के तौर पर बैंक पासबुक के पहले पेज की फोटोकॉपी / बिजली बिल/पानी बिल
  • बैंक खाता पासबुक
  • रंगीन पासपोर्ट साइज़ फोटो

Uttar Pradesh 6 Gaay/Bhains Wali Dairy Pariyojana Loan  Process  उ.प्र. छः गाय /भैंस वाली डेयरी परियोजना ऋण प्राप्ति की प्रक्रिया 

  • योजना के तहत आवेदक को कुल  रूपए 4 लाख दुग्ध इकाई की स्थापना के लिए बैंक से ऋण प्राप्त होगी।
  • जिसमें से रूपए 4 लाख का 15 प्रतिशत यानि रूपए 60 हज़ार आवेदक को  बैंक को पहले देना होगा।
  • इसके पश्चात् शेष ऋण की राशि रूपए 3 लाख 40 हज़ार दो किश्तों में छह -छह महीने के अंतराल पर बैंक द्वारा आवेदक को प्रदान की जायेगी।

Uttar Pradesh 6 Gaay/Bhains Wali Dairy Pariyojana Mein Aavedan Process  उ.प्र. छः गाय /भैंस वाली डेयरी परियोजना में आवेदन 

  • इस परियोजना का आवेदन फॉर्म प्रदेश के सभी जिलों के जिला पशु चिकित्सालय में उपलब्ध होगा।
  • आपको आवेदन फॉर्म भरने के बाद आवश्यक दस्तावेज़ सलंग्न करके जिला पशु चिकित्सालय में जमा करना होगा।
  • इसके बाद आपकी पात्रता जाँच करने के पश्चात आवेदन फॉर्म को स्वीकार किये जाने की दशा में योजना के नियमानुसार लौटरी प्रक्रिया के द्वारा नाम का चयन किया जाएगा।
  • इसके बाद हीं आपको बैंक से ऋण प्राप्त हो सकेगा।

अन्य योजनायें पढ़िए हिंदी में :

उ.प्र.आरटीई  प्रवेश रजिस्ट्रेशन 2019-20

उत्तर प्रदेश दिव्यांग पेंशन योजना

उ.प्र. निराश्रित महिला पेंशन सूचि 2018-19

Leave a Reply