म. प्र. दीनदयाल अन्योदय रसोईं योजना 2019 MP Deendayal Anyaoday Rasoin Yojana 2019

दीनदयाल अन्योदय रसोईं योजना 2019, Deendayal Anyaoday Rasoin Yojana, Deendayal Anyaoday Rasoin ka uddeshya,MP Deendayal Anyaoday Rasoin Yojana, Deendayal Thali Yojana ka kriyanvayn,  Deendayal Thali Yojana mein Bhojan ki Matra, म. प्र. दीनदयाल अन्योदय रसोईं योजना

DEENDAYAL RASOIN YOJANA PIC

म. प्र. दीनदयाल अन्योदय रसोईं योजना 2019 MP Deendayal Anyaoday Rasoin Yojana 2019

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा गरीबी रेखा से नीचे जीवन यापन करने वाले श्रमिक परिवार, अनाथ एवं बेघर बुजुर्ग नागरिकों के लिए भोजन की व्यवस्था के मद्देनज़र 7 अप्रैल 2017 को दीनदयाल अन्योदय रसोईं योजना की शुरुआत की गई है। इस योजना को तमिलनाडु के अम्मा कैंटीन की तर्ज पर प्रारम्भ किया गया है। मुख्यमंत्री द्वारा भोपाल के शाह्जहनी पार्क के निकट रेन बसेरा आश्रम पर प्रदेश की पहली दीनदयाल थाली की दूकान खोल कर योजना को प्रारंभ किया है। दीन दयाल अन्त्योदय रसोई योजना के उपभोक्ताओं के लिए  प्रदेश सरकार द्वारा वर्ष 2019 के लिए 2964 क्विंटल खाधान्न आवंटित किया गया है। जिनमें 1853 क्विंटल गेहूँ और 1111 क्विंटल चावल शामिल है। आइये जाने इस लेख के माध्यम से योजना की विस्तृत जानकारी।

दीनदयाल अन्योदय रसोईं का उद्देश्य (Deendayal Anyaoday Rasoin ka uddeshya)

योजना का उद्देश्य दूर -दराज के गाँवों तथा दूसरे प्रदेशों से शहरों में मजदूरी करने आये श्रमिक एवं बेघर गरीब, अनाथ बुजुर्ग नागरिकों को कम कीमत पर पौष्टिक एवं स्वादिष्ट भोजन उपलब्ध कराना है।

दीनदयाल थाली योजना में भोजन की मात्रा   (Deendayal Thali Yojana mein Bhojan ki Matra)

प्रदेश की नगरीय विकास मंत्री माया सिंह के अनुसार योजना के तहत मिलने वाली रूपए 5 की थाली में चार रोटी, एक सब्जी और दाल दिया जायेगा। दीनदयाल अन्योदय रसोईं की थाली के मिलने का समय सुबह 11 बजे से दोपहर 3 बजे तक है।

दीनदयाल थाली योजना का क्रियान्यवन  (Deendayal Thali Yojana ka kriyanvayn)

  • इस योजना के क्रियान्वयन के लिए प्रदेश की खाध एवं नागरिक आपूर्ति विभाग और नगर निगम के उपभोक्ता केंद्र द्वारा पीडीएस दरों पर राशन प्रदान किया जाएगा।
  • इसके अतिरिक्त योजना के रसोईं, पानी तथा बिजली की पूर्ति प्रदेश के सामाजिक संगठनों के सम्मलित प्रयास से पूर्ण किया जाएगा।
  • योजना को प्रथम चरण में प्रदेश के 51 जिला मुख्यालय में क्रियान्वित किया जाएगा।
  • प्रत्येक जिला मुख्यालय में एक दीनदयाल अन्योदय रसोईं केंद्र खोला जाएगा। किन्तु बड़े शहरों में आवश्यकता अनुसार दो केंद्र खोले जा सकते हैं।

अन्य योजना पढ़िए हिंदी में :

म.प्र.- इंस्पायर अवार्ड योजना

मध्य प्रदेश- नर्मदा सेवा कार्य योजना

मध्य प्रदेश मुख्यमंत्री की कौशल्या योजना

 

 

 

 

Leave a Reply