Integrated Teacher Education Program kya Hai (ITEP) इंटीग्रेटड टीचर एजुकेशनल प्रोगाम (आईटीईपी) क्या है

Integrated Teacher Education Program, ITEP Course kya Hai, इंटीग्रेटड टीचर एजुकेशनल प्रोगाम, Integrated Teacher Education Program Eligibility, Integrated Teacher Education Program ki Main Points, इंटीग्रेटड टीचर एजुकेशनल प्रोगाम की विशेषताएं , आईटीईपी कोर्स

ITEP IMAGE

Integrated Teacher Education Program kya Hai (ITEP) इंटीग्रेटड टीचर एजुकेशनल प्रोगाम (आईटीईपी) क्या है

अब टीचर बनने के लिए बीएड (B. ED) , डीएलएड /बीटीसी डिग्री कोर्स की जगह इंटीग्रेटड टीचर एजुकेशनल प्रोगाम में प्रवेश लेना होगा। दरअसल आईटीईपी कोर्स को लागू करने की घोषणा वर्ष 2018 में राष्ट्रिय अध्यापक शिक्षा परिषद् द्वारा की गई थी।  NCTE द्वारा 3 दिसम्बर से 31 दिसम्बर 2018 तक सभी सरकारी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालयों से एकीकृत अध्यापक शिक्षा कार्यक्रम का संचालन करने के लिए आवेदन आमंत्रित किया गया था। राष्ट्रिय शिक्षा परिषद द्वारा इंटीग्रेटड टीचर एजुकेशनल प्रोगाम के दिशा निर्देश जारि कर दिए गए हैं। कार्यक्रम के अंतर्गत पहले चरण में इस कोर्स को कला एवं विज्ञानं वर्ग के लागू किया जाएगा।  इंटीग्रेटड टीचर एजुकेशनल प्रोगाम चार वर्ष का डिग्री कोर्स होगा। जिसमें आठ सेमेस्टर होंगें।  यदि कोई छात्र किसी सेमेस्टर में असफल हो जाता है। तो उसे अधिकतम 6 वर्ष में इस डिग्री कोर्स को पूरा करना आवश्यक होगा। अब बैचलर ऑफ़ एजुकेशन की डिग्री छात्र 12 वीं पास करने के बाद 4 वर्ष में प्राप्त कर सकेंगे। वर्ष 2018 तक बीएड की डिग्री प्राप्त करने में पांच वर्ष का समय लगता था। पहले तीन वर्ष की स्नातक की पढ़ाई करनी होती थी। उसके बाद दो वर्ष बीएड या डीएलएड (Diploma in elementary education) का कोर्स करना होता था। आइये जाने आईटीईपी कार्यक्रम की पूरी जानकारी।

Integrated Teacher Education Program Eligibility  इंटीग्रेटड टीचर एजुकेशनल प्रोगाम में प्रवेश की पात्रता

  • एकीकृत अध्यापक शिक्षा कार्यक्रम में प्रवेश प्राप्त करने के लिए अभ्यर्थी को किसी मान्यता प्राप्त विद्यालय से 12 वीं कक्षा पास होना आवश्यक होगा।
  • सामान्य वर्ग के अभ्यार्थियों को 12 वीं बोर्ड की परीक्षा में न्यूनतम 50% अंक से पास होना आवश्यक होगा।
  • अनुसूचित जाति /अनुसूचित जनजाति /अन्य पिछड़ा वर्ग के छात्रों को केंद्र सरकार द्वारा लागू नियमों के अनुसार अंक के प्रतिशत में छूट दी जायेगी।

Integrated Teacher Education Program ki Main Points इंटीग्रेटड टीचर एजुकेशनल प्रोगाम की विशेषताएं 

  • छात्रों द्वारा प्राप्त अंकों के मेरिट के आधार पर इस कोर्स में प्रवेश पाया जा सकेगा।
  • आईटीईपी कोर्स में एडमिशन के लिए स्टेट अथवा नेशनल लेवल की प्रवेश परीक्षा भी आयोजित की जा सकती है।
  • इस कोर्स में प्रवेश के लिए अभ्यार्थियों द्वारा चयन किये गए विषयों में बदलाव शिक्षण कार्यक्रम प्रारंभ होने के एक महीने के अन्दर किया जा सकेगा।
  • इंटीग्रेटड टीचर एजुकेशनल प्रोगाम के तहत दो प्रकार के डिग्री कोर्स का संचालन किया जाएगा। एक आईटीईपी कोर्स में प्री प्राइमरी से प्राइमरी स्तर तक की कक्षाओं को पढ़ाने की डिग्री प्राप्त होगी। दूसरे प्रकार के आईटीईपी कोर्स में सेकेंडरी स्तर तक पढ़ाने की डिग्री प्राप्त होगी।
  • आईटीईपी कोर्स चार वर्ष की अवधि का होगा। जिसमें आठ सेमेस्टर होंगे।  किन्तु यदि कोई छात्र किसी सेमेस्टर की परीक्षा में असफल होता है। तो उसे अधिकतम 6 वर्ष में इस कोर्स को पूरा करना होगा।
  • सभी पाठ्यक्रमों के लिए  छात्रों कि उपस्थिति कक्षा में 80% होगी एवं कोर्स से सम्बंधित प्रायोगिक परीक्षा के लिए उपस्थिति 90% आवश्यक होगी।

एकीकृत अध्यापक शिक्षा कार्यक्रम की अधिक जानकारी के लिए लिंक का प्रयोग कर सकते हैं।

अन्य योजनायें पढ़िए हिंदी में :

मध्य प्रदेश सुपर 100 योजना में आवेदन प्रारंभ

जय भीम मुख्यमंत्री प्रतिभा विकास योजना

साइबर बीमा पालिसी

 

Leave a Reply