How does corona virus infect the body कोरोना वायरस शरीर को संक्रमित कैसे करता है

corona virus, kovid 19, corona virus infection in body, कोरोना वायरस शरीर को संक्रमित कैसे करता है, कोरोना वायरस, corona virus incubation period, Common Symptoms Of Corona Virus Infection,Severe symptoms of corona virus infection, kovid 19 rog kya hai, corona virus sankraman ke gambhir lakshan, corona virus sankraman ke mamuli lakshan

corona virus infection in body pics

How does corona virus infect the body कोरोना वायरस शरीर को संक्रमित कैसे करता है

कोरोना वायरस के संक्रमण की खबर दिसम्बर 2019 में चीन के वुहान शहर से पहली बार सामने आई थी। इसके बाद से लगभग तीन महीने में इस वायरस का संक्रमण दुमिया के 140 से अधिक देशों में फ़ैल चुका है। संक्रमण के बढ़ते मामलों को देखते हुए विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) को कोरोना वायरस को महामारी घोषित करना पड़ा है। इंसानों में कोरोना वायरस के संक्रमण से होने वाले रोग को कोविड 19 (kovid 19) नामक बीमारी के नाम से जाना जाता है। इसके शुरूआती लक्षण सामान्य खाँसी, जुखाम से शुरू होते हैं। वायरस को संक्रमित करने के लिए शरीर की कोशिकाओं में घर करने में लगभग 5 दिन का समय लगता है। वायरस के शरीर में प्रवेश करते हीं शरीर बीमार जैसा प्रतीत नहीं होता है। तो आइये जाने कोविड 19 बीमारी का संक्रमण शरीर में कैसे फैलता है? कैसे इस रोग से कुछ लोग स्वस्थ हो जाते हैं, वहीँ कुछ लोगों दम तोड़ देते हैं?

Corona Virus Incubation Period कोरोना वायरस का इन्क्यूबेशन पीरियड 

इन्क्यूबेशन पीरियड वायरस के शरीर में प्रवेश और संक्रमण के लक्षण दिखने के बीच के समय को कहते हैं। इस पीरियड के दौरान वायरस शरीर की कोशिकाओं में घर बना लेता है। इसके बाद वायरस सबसे पहले गले को संक्रमित करता है। फिर साँस की नली और इसके बाद फेफड़े में संक्रमण फैलाता है। इस प्रकार इस वायरस की संख्या शरीर में बढ़ने लगती है, फिर शरीर के अन्य अंगों को संक्रमित करने लगती है। वायरस के शरीर में प्रवेश करने पर साँस लेने में तकलीफ हो सकती है। हालाँकि जरुरी नहीं है कि सभी रोगियों में संक्रमण के शुरुआत में हीं लक्षण दिखे। कोरोना वायरस का इन्क्यूबेशन पीरियड लोगों में अलग -अलग हो सकता है। सामान्यता वायरस का इन्क्यूबेशन पीरियड 5 दिन का होता है।

Common Symptoms Of Corona Virus Infection  कोरोना वायरस संक्रमण के सामान्य लक्षण 

ज्यादातर लोगों में वायरस संक्रमण के शुरूआत में बदन दर्द, बुखार,सिर में दर्द, खाँसी,गले में खराश जैसे सामान्य लक्षण दिखाई देते हैं। कुछ केसेस में शुरुआत में हीं साँस लेने में दिक्कत जैसे लक्षण दिखाई देना पाया गया है। डॉक्टर्स के अनुसार हाल के संक्रमण के मामलों को देखते हुए कोविड 19 के रोगियों में नाक बहने जैसे सर्दी जुखाम के लक्षण भी पाए जा सकते हैं।

वायरस संक्रमण से लड़ने के लिए शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता कोशिश करने लगती है। फलस्वरूप वायरस को मारने के लिए साइटोकाइन रसायन का प्रवाह शरीर में शुरू हो जाता है। जिसके कारण बुखार और बदन दर्द जैसे लक्षण शुरू हो जाते हैं। कोविड वायरस संक्रमण में ज्यादातर मामलों में खाँसी के साथ बलगम नहीं आती है और कुछ मामलों में केवल गले में खराश हीं होता है। किन्तु कुछ रोगियों में खाँसी के साथ बलगम भी आ सकता है।  ऐसे में संक्रमण के कारण नष्ट हो चुकी फेफड़े की मृत कोशिका भी बलगम के साथ निकलती है। इस प्रकार के सामान्य लक्षण दिखने पर अस्पताल में भर्ती होने की जरुरत नहीं होती है। डाक्टर घर पर हीं आराम करने, ज्यादा पानी पीने और पैरासिटामोल टेबलेट खाने की सलाह देते हैं। ये लक्षण एक सप्ताह तक रहता है। इसके बाद जिन संक्रमित व्यक्तियों के शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता अच्छी होती है। उनके स्वास्थ्य में सुधार होने लगता है। किन्तु कुछ मामलों में रोगी का स्वास्थ्य बिगड़ने  लगता है और वायरस संक्रमण के गंभीर लक्षण दिखने शुरू हो जाते हैं।

Severe symptoms of corona virus infection  कोरोना वायरस संक्रमण के गंभीर लक्षण  

वायरस संक्रमण को ख़त्म करने के दौरान शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता का जरुरत से ज्यादा काम करने के कारण कोविड 19 रोगी में गंभीर लक्षण दिखने शुरू हो जाते है। वायरस को नष्ट करने के लिए शरीर में प्रवाहित होने वाली रसायन के कारण फेफड़ों में सूजन आ जाती है। फेफड़ों में सूजन आने को हीं निमोनिया रोग कहा जाता है। ऐसी स्थिति में कोरोना वायरस संक्रमण के कारण फेफड़ों में एयरसैक बन जाते हैं। इन एयरसैक में पानी जमने लगती है। जिसके कारण रोगी को साँस लेने में दिक्कत होने लगती है। रोगी लम्बी साँस नहीं ले पाता है। ऐसी स्थिति में पहुँचने पर रोगी को वेंटीलेटर की आवश्यकता पड़ती है। फेफड़ों में सूजन के कारण शरीर को आवश्यता अनुसार ऑक्सीजन नहीं मिल पाता है। इस स्थिति में पहुँचने पर फेफड़े का फेल होना, ऑर्गन फेल होना, सेप्टिक शॉक होने का खतरा बढ़ जाता है। जिसके कारण रोगी की मौत भी हो सकती है।

अधिक जानकारी के लिए विडियो देखिये For more information watch video below:

अन्य योजनायें पढ़िए हिंदी में :

कोरोना वायरस संक्रमण से बचाव के उपाय

अमेज़न एफिलिएट अकाउंट कैसे बनाए

कोरोना वायरस से जुड़ी प्रमुख जानकारी

 

 

 

 

 

2 Comments

Leave a Reply