Honey Mission Project हनी मिशन परियोजना

Honey Mission, Honey Mission Project kya Hai , मीठी क्रांति, sweet revolution,हनी मिशन,Training program under Honey Mission,  Honey Mission Training program, हनी मिशन  प्रशिक्षण कार्यक्रम, मधुमक्खी पालन सब्सिडी,  Honey Mission subsidy

हनी मिशन योजना image

Honey Mission Project हनी मिशन परियोजना

प्रधानमंत्री रोज़गार सृजन योजना के अंतर्गत हनी मिशन प्रोजेक्ट की शुरुआत प्रधानमंत्री मोदी द्वारा मीठी क्रांति मिशन के रूप में वर्ष 2017 में की गई थी। इस परियोजना को गुजरात के बनासकांठा जिले के डीसा गाँव में बनास हनी परियोजना के नाम से लांच किया गया था। योजना का संचालन खादी एवं ग्रामोद्योग विभाग द्वारा किया जाएगा। हनी मिशन प्रोजेक्ट के तहत अब तक लगभग 1,000,00 मधुमक्खी पालन बक्से बाँटे जा चुके हैं। मधुमक्खी पालन व्यवसाय को किसानो के अतिरिक्त बेरोजगार युवक भी शुरू कर सकते हैं। व्यवसाय शुरू करने के लिए खादी  एवं ग्रामोद्योग विभाग द्वारा परियोजना लागत का 80% सब्सिडी प्रदान किया जाएगा। इस योजना का उद्देश्य गरीब किसानों और आदिवासी जनजातीय समुदाय के नागरिकों को रोज़गार के नए अवसर से अवगत  करना है। योजना के तहत इच्छुक मधुमक्खी पालकों को नयी तकनीक से शहद निकालने एवं मधुमक्खी पालन से संबंधित प्रशिक्षण भी प्रदान किया जाता है। आइये जाने योजना की पूरी जानकारी।

Honey Mission Project kya Hai हनी मिशन परियोजना क्या है

  •  हनी मिशन के संचालन से देश के गरीब किसान खेती मजदूरी के अतिरिक्त कम लागत में अपना व्यवसाय शुरू कर सकेंगे। जिससे उनके आर्थिक स्थिति में सुधर होगा।
  • योजना के तहत मधुमक्खी पालन व्यवसाय शुरू करने के लिए खदी एवं ग्रामोद्योग विभाग द्वारा परियोजना लागत का 80% सब्सिडी दिया जाएगा। केवल 20% धनराशी मधुमक्खी पालक को अपने पास निवेश करना होगा।
  • मधुमक्खी पालन के दस बक्से द्वारा नयी तकनीक से व्यवसाय शुरू करने में लगभग 35 हज़ार रूपये की लागत आती है। जिसका 80% यानि 28 हज़ार रूपये प्रदेश के खादी एवं ग्रामोद्योग विभाग द्वारा सब्सिडी दिया जाएगा। केवल 20% यानि 7 हज़ार रूपये मधुमक्खी पालक को निवेश करना होगा।
  • मधुमक्खी पालकों को शहद पैकेजिंग एवं लेबलिंग इकाई स्तापित करने के लिए खादी एवं ग्रामोद्योग विभाग द्वारा ऋण उपलब्ध करवाया जाएगा।
  • परियोजना को शुरू करने का उद्देश्य जनजातीय समुदाय के नागरिकों को रोज़गार के नए अवसर प्रदान करना है। जिससे शहद निकालने के अतिरिक्त बी वैक्स के द्वारा भी उनके आमदनी में वृद्धि हो सके।

Training program under Honey Mission   हनी मिशन के तहत प्रशिक्षण कार्यक्रम

  • फानी मिशन को मीठी क्रांति के आह्वान के रूप में देश के 15 प्रदेशों में शुरू किया गया है। योजना के तहत सभी प्रदेशों में प्रशिक्षण कार्यक्रम चलाया जाता है। मधुमक्खी पालन व्यवसाय शुरू करने के लिए एवं योजना के तहत सब्सिडी का लाभ प्राप्त करने के लिए प्रशिक्षण लेना आवश्यक है।
  • योजना के तहत किसान भाईयों को मधुमक्खी पालन से सम्बंधित प्रशिक्षण दिया जाएगा। इसके अतिरिक्त मधुमक्खी पालन व्यवसाय से जुड़ने को प्रोत्साहित भी किया जाएगा।
  • हनी मिशन प्रोजेक्ट के प्रशिक्षण कार्यक्रम में भाग लेने के लिए अपने क्षेत्र के खादी ग्रामोद्योग विभाग से संपर्क करना होगा। प्रशिक्षण का लाभ कोई भी इच्छुक युवक /युवती प्राप्त कर सकते हैं। प्रशिक्षण के दौरान परीक्षा में सफल उमीदवारों को सर्टिफिकेट दिया जाएगा। जिसके आधार पर सरकार द्वारा हनी मिशन प्रोजेक्ट के अंतर्गत सब्सिडी का लाभ प्राप्त किया जा सकेगा।
  • योजना के तहत इच्छुक मधुमक्खी पालकों को मधुमक्खी पालन से सम्बंधित प्रशिक्षण के अंतर्गत मौसम परिवर्तन केअनुसार मधुमक्खी कालिनियों के प्रबंधन, मधुमक्खियों की बीमारियों की पहचान, नयी तकनीक के प्रयोग से शहद निकालने, बी वैक्स तैयार करने आदि की जानकारी दी जायेगी।
  • इसके अतिरिक्त शहद की पैकेजिंग एवं लाबेलिंग की इकाई शुरू करने का प्रशिक्षण भी दिया जाएगा।
  • प्रशिक्षण में किसानों को मधुमक्खी पालन से कृषि उपज में होने वाले फायेदे की जानकारी प्रदान की जायेगी। दरअसल मधुमक्खी परागण की क्रिया में अन्य कीटों की अपेक्षा सबसे अधिक योगदान करती हैं। मधुमक्खी के सर्वाधिक छत्ते वाले क्षेत्र के आसपास की कृषि भूमि पर फसलों की पैदावार में अन्य क्षेत्रों की अपेक्षा 30% प्रतिशत तक फसल की पैदावार अधिक होती है। अतः किसान भाई इस मिशन के तहत सब्सिडी का लाभ उठाकर मधुमक्खी पालन व्यवसाय से दोहरी आमदनी प्राप्त कर सकते हैं।

योजना की अधिक जानकारी के लिए खादी ग्रामोद्योग विभाग लिंक पर क्लिक करिए।

योजना की अधिक जानकारी यूट्यूब विडियो में देखिये  For more information watch YouTube video.

अन्य योजनायें पढ़िए हिंदी में :

बिहार मुख्यमंत्री वृद्धजन पेंशन योजना में आवेदन

भामाशाह कार्ड योजना में आवेदन

म.प्र. के ग्रामीण मुफ्त बायोगैस का लाभ उठा सकेंगे

 

Leave a Reply