Corona Virus Infection Symptoms kaise jane कोरोना वायरस संक्रमण के लक्षण कैसे पहचाने

corona virus, corona virus infection, कोरोना वायरस संक्रमण, कोरोना वायरस संक्रमण के लक्षण, corona virus sankraman ke lakshan kaise pahchane, corona virus infection identification, early symptoms of corona virus infection, कोरोना वायरस संक्रमण के प्रारंभिक लक्ष्ण,

corona virus infection kaise pahchane pics

Corona Virus Infection Symptoms kaise jane कोरोना वायरस संक्रमण के लक्षण कैसे पहचाने

कोरोना वायरस महामारी के कहर का आतंक जारी है। इस समय दुनिया भर में कोरोना वायरस से लगभग 8 लाख लोग संक्रमित है। जिनमें से 35 हज़ार से ज्यादा लोग मौत के मुंह में जा चुके हैं। इस महामारी से बचने का एकमात्र इलाज सोशल डिस्टेंसिंग (आपस में दूरी बनाकर रखना) है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (W.H.O)के रिपोर्ट के अनुसार  कोरोना वायरस से संक्रम्नित व्यक्ति के छींकने/खाँसने से वायरस संक्रमण का खतरा एक या दो मीटर तक की दूरी तक रहता है। किन्तु अमेरिका के वैज्ञानिकों की रिपोर्ट के अनुसार कोरोना वायरस के संक्रमण का असर 7 या 8 मीटर की दूरी तक हो सकता है। जर्नल ऑफ़ द अमेरिकन मेडिकल एसोसिएशन की रिपोर्ट के अनुसार छींकते या खाँसते समय मुँह या नाक से निकलने वाली सूक्षम बूँदे 7 – 8 मीटर तक जाती हैं। जिसके कारण कोरोना संक्रमित व्यक्ति से  7 से 8 मीटर की दूरी बना कर रखने की आवश्यकता है। चूँकि कोरोना संक्रमण का पता लगाना आसान नहीं है। इससे संक्रमित व्यक्ति में साधारण फ्लू और खाँसी, जुखाम जैसे लक्षण हीं पाए जाते हैं। इसलिए सोशल डिस्टेंसिंग में 7 से 8 मीटर की दूरी बनाकर रखना आवश्यक है। हलांकि फ्लू, खाँसी, जुखाम से पीड़ित व्यक्ति पर बारीकी से नज़र रखने पर संक्रमण का पता लगाया जा सकता है। आइये जाने कोरोना वायरस संक्रमण के लक्षण को कैसे पता किया जा सकता है।

Early Symptoms Of Corona Virus Infection कोरोना वायरस संक्रमण के प्रारंभिक लक्ष्ण 

संक्रमण के पहले दिन –

कोरोना वायरस संक्रमित व्यक्ति को पहले दिन तेज बुखार चढ़ने लगता है। इस दौरान शरीर का तापमान अत्यधिक बढ़ भी सकता है।

संक्रमण के दूसरे दिन –

रोगी को बुखार के साथ सुखी खाँसी और जुखाम की भी शिकायत होने लगती है।

तीसरे और चौथे दिन –

तीसरे या चौथे दिन से रोगी की माँसपेशियों में तेज दर्द होने लगता है। इसके साथ हीं शरीर के जोड़ों में भी दर्द का अनुभव होता है। कई मामलों में देखा गया है कि रोगी के गले में सूजन भी हो जाती है।

संक्रमण के पाँचवे दिन –

पाँचवां दिन होने तक रोगी को साँस लेने में दिक्कत होने लगती हैं। उम्रदराज लोगों में ये समस्या ज्यादा हो सकती है।

संक्रमण के सातवें दिन –

सांतवे दिन रोगी को डॉक्टर के पास जाने की जरुरत महसूस होती है। चीन के वुहान शहर के अस्पताल के अनुसार ज्यादातर संक्रमित रोगी सातवें दिन हीं अस्पताल में भर्ती होने आते पाये गये हैं।

संक्रमण के आँठवें दिन –

सप्ताह का अंत होते -होते रोगी के शरीर में रेस्पिरेटरी डिस्ट्रेस सिंड्रोम से सम्बंधित समस्याएँ दिखने लगती हैं। इस स्थिति में पहुँचने तक रोगी के फेफड़ों में बलगम अधिक मात्रा में बनने लगता है।

संक्रमण के नौवें  दिन –

नौवें दिन तक फेफड़ों में बलगम बढ़ने से ऑक्सीजन की कमी हो जाती है। जिससे रोगी को साँस लेने में परेशानी के साथ हीं सीने में दर्द होता है।

डॉक्टर्स केअनुसार कोरोना वायरस के संक्रमण के लक्ष्ण दिखने में 2 से 10 दिनों का समय लग सकता है।

अधिक जानकारी के लिए विडियो देखिये For more information watch video below:

अन्य योजनायें पढ़िए हिंदी में :

दिल्ली सरकार की फ्री सर्जरी योजना

किसानो के लिए लॉकडाउन के नियम

इन खाद्य पदार्थों के सेवन से कोरोना संक्रमण का खतरा

 

 

 

 

Leave a Reply