CEIR webportal will detect stolen/lost mobile सीईआईआर वेबपोर्टल चोरी / गुम मोबाइलों का पता लगाएगा

DOT, IMEI CODE, CEIR, CEIR web portal, ceir helpline number, kendriya yojana, CEIR Project, Mechanism Of CEIR Project, सीईआईआर  प्रोजेक्ट,Block Mobile request, unblock mobile request, check unblock mobile status, sarkari yojana, telecommunication department scheme, दूरसंचार विभाग योजना

ceir webportal image

CEIR webportal will detect stolen/lost mobile सीईआईआर वेबपोर्टल चोरी / गुम मोबाइलों का पता लगाएगा

दूरसंचार विभाग (डिपार्टमेंट ऑफ़ टेलीकम्यूनिकेशन) द्वारा गुम हुए या चोरी हुए मोबाइल फोन का पता लगाने के लिए सीईआईआर (CEIR) वेब पोर्टल को लॉन्च किया गया है। सेंट्रल इक्विपमेंट आइडेन्टिटी रजिस्टर वेबपोर्टल को केन्द्रीय दूरसंचार मंत्री रविशंकर प्रसाद द्वारा मुंबई में शुरू किया गया है। महाराष्ट्र सर्किल में CEIR प्रोजेक्ट का ट्रायल होने के बाद सभी राज्यों में इस योजना का संचालन किया जाएगा। इस वेबपोर्टल के जरिये चोरी हुए या खोये हुए मोबाइल फोन को हर नेटवर्क पर ब्लाक किया जा सकेगा। मोबाइल में नेटवर्क का सिग्नल नहीं आने के बावजूद पुलिस मोबाइल की ट्रैकिंग कर सकेगी।

दरअसल हर मोबाइल का यूनिक आइडेंटिफिकेशन कोड होता है। जिसे IMEI (इंटरनेशनल मोबाइल इक्विपमेंट आइडेंटिटी) कोड कहते हैं। ये 15 डिजिट का नंबर होता है। इस कोड के बिना कोई भी सिम मोबाइल में नहीं चल सकता है। IMEI कोड की सहायता से मोबाइल को ट्रेस किया जा सकता है। IMEI कोड को रिप्रोग्राम किया जा सकता है। जिसके कारण चोरी किये हुए मोबाइल के कोड की क्लोनिंग कर दी जाती है। आज देश में एक IMEI नंबर के लगभग 18000 हज़ार मोबाइल चलन में हैं।

CEIR प्रणाली में सभी मोबाइल ऑपरेटर के IMEI कोड का डेटा दर्ज होगा। मोबाइल चोरी होने पर सबसे पहले पुलिस स्टेशन में आआईआर दर्ज करवाना होगा। इसके बाद हेल्पलाइन नंबर 14422 पर कॉल करके दूरसंचार विभाग को मोबाइल चोरी की सूचना देनी होगी। इसके बाद मोबाइल के IMEI को वेरीफाई करने के बाद आपके मोबाइल को ब्लैकलिस्ट कर दिया जाएगा। जब कोई ब्लैकलिस्टेड मोबाइल में कोई दूसरा सिम लगायेगा, तो पुलिस के द्वारा ट्रैक कर लिया जाएगा।

आप खुद भी CEIR वेबपोर्टल के माध्यम से अपने खोये हुए मोबाइल को ब्लाक कर सकते हैं। फिर मोबाइल मिल जाने के बाद मोबाइल को अनब्लॉक कर सकते हैं। इसके अतिरिक्त मोबाइल के अनब्लॉक होने की स्थिति की जाँच भी कर सकते हैं तो आइये जाने सेंट्रल इक्विपमेंट आइडेन्टिटी रजिस्टर वेबपोर्टल के माध्यम से चोरी हुए मोबाइल को ब्लाक कैसे किया जा सकता है ?

 Mechanism Of CEIR Project  सीईआईआर  प्रोजेक्ट की कार्यप्रणाली

  • डिपार्टमेंट ऑफ़ टेलीकम्यूनिकेशन (DOT) द्वारा मोबाइल की चोरी की घटनाओं पर नियंत्रण पाने के लिए उपकरण पहचान रजिस्टर प्रोजेक्ट तैयार किया गया है। इस प्रोजेक्ट को संचालित करने के लिए (CEIR) सेंट्रल इक्विपमेंट आइडेन्टिटी रजिस्टर वेबपोर्टल लांच किया गया है।
  • CEIR से  सभी मोबाइल ऑपरेटर के IMEI डाटाबेस को कनेक्ट किया गया है। ताकि ब्लैकलिस्ट किये हुए उपकरण पहचान रजिस्टर कोड को सभी मोबाइल नेटवर्क पर ब्लाक किया जा सके।
  • CEIR डेटाबेस को सभी राज्यों के पुलिस के साथ शेयर किया जाएगा जिससे मोबाइल चोरी होने का एफईआर दर्ज किये जाने पर पुलिस और सर्विस  प्रोवाइडर कम्पनी मोबाइल के IMEI कोड एवं मॉडल को चेक कर पायेंगे और मोबाइल को ब्लैकलिस्ट कर सकेंगे।
  • इसके बाद मोबाइल पर किसी भी नेटवर्क का सिंग्नल नहीं आएगा। इस प्रकार चोरी की गयी मोबाइल केवल खिलौने का कम करेगी।
  • अब चोरी की गयी मोबाइल में जैसे हीं दूसरे सिम का प्रयोग किया जाएगा। सर्विस प्रोवाइडर नए यूजर की पहचान कर पुलिस को सूचित कर देगा। इस प्रकार पुलिस बिना नेटवर्क के भी मोबाइल ट्रेस कर सकेगी।

Blocking Mobile From CEIR Web Portal  सीईआईआर वेब पोर्टल से मोबाइल ब्लाक करना

  • ऑनलाइन चोरी हुए मोबाइल को ब्लाक करने के लिए CEIR वेब पोर्टल लिंक पर क्लिक करिए।

  • इस पेज में ceir services विकल्प के अंतर्गत block stolen/lost mobile विकल्प पर क्लिक करना होगा।

  • इस पेज में सभी सूचनाएं लिखने के बाद submit विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • इसके बाद आपके द्वारा दर्ज मोबाइल नंबर एवं ईमेल आईडी पर request id का मेसेज प्राप्त होगा।
  • इस आईडी को आपको याद रखना होगा। क्योंकि इस आईडी के प्रयोग से आप मोबाइल प्राप्त होने की स्थिति की जानकारी प्राप्त कर सकेंगे।
  • अब यदि खोयी /चोरी हो चुकी मोबाइल आपको मिल जाती है। तो मोबाइल अनब्लॉक  रिक्वेस्ट करने के लिए लिंक पर क्लिक करिए।

  • इस पेज में रिक्वेस्ट आईडी नंबर लिखने के बाद मोबाइल नंबर लिखना होगा।
  • वही मोबाइल नंबर लिखना होगा, जो आपने ब्लाक करने के लिए फॉर्म में लिखा था।
  • इसके बाद otp लिखने के बाद submit विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • मोबाइल अनब्लॉक होने की स्थिति की जाँच करने के लिए check request status विकल्प पर क्लिक करना होगा।

  • मोबाइल अनब्लॉक रिक्वेस्ट फॉर्म में लिखे गए रिक्वेस्ट आईडी को लिखने के बाद submit विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • इसके बाद आपके मोबाइल अनब्लॉक स्टेटस की जानकारी आप प्राप्त कर सकेंगे।

सेंट्रल इक्विपमेंट आइडेन्टिटी रजिस्टर योजना की जानकारी के लिए ceir.pdf लिंक का प्रयोग करिए।

अधिक जानकारी के लिए विडियो देखिये For more information watch video below:

अन्य योजनाये पढ़िए हिंदी में :

मोदी सरकार की मिशन एप्पल योजना

नयी ट्रैफिक रूल्स 2019

आधार कार्ड अपडेट के लिए ऑनलाइन अपॉइंटमेंट बुकिंग

 

 

46 Comments

  1. keo nha cai June 27, 2021
  2. Ligia Storm June 3, 2021
  3. Esther Kishi May 31, 2021
  4. Hui Cager May 30, 2021
  5. Lecia Anglemyer May 29, 2021
  6. Ed Stuekerjuerge May 28, 2021
  7. Xavier Tufnell May 22, 2021
  8. Trinidad Wiegel May 21, 2021
  9. Darius Grover May 20, 2021
  10. Dane Zecca May 19, 2021
  11. Les Goulas May 18, 2021
  12. Wilber Burczyk May 17, 2021
  13. Shenika Cumberlander May 17, 2021
  14. stornobrzinol May 14, 2021
  15. Yessenia Stahlecker May 12, 2021
  16. Lindsey Bedoka May 11, 2021
  17. Ralph Kachiroubas March 25, 2021
  18. arvest bank March 9, 2021
  19. this url January 9, 2021
  20. kimber micro 9 for sale January 6, 2021
  21. 메이저놀이터 December 25, 2020
  22. nằm mơ thấy bốc mộ November 24, 2020
  23. cvv dumps November 20, 2020
  24. mơ thấy bị đòi nợ November 12, 2020
  25. Free Games November 2, 2020
  26. Gene Ancar October 15, 2020
  27. Alvin Derk October 13, 2020
  28. Iliana Santell September 29, 2020
  29. Windy Scarberry September 29, 2020
  30. Christian Honeycott September 29, 2020
  31. GLR Fasteners August 3, 2020
  32. video advertising app August 1, 2020
  33. Appliance Repair August 1, 2020
  34. 1st Counsel July 31, 2020
  35. Turkey Tours July 30, 2020
  36. Harling Security July 30, 2020
  37. Bomme Studio July 29, 2020
  38. Appliance Repair July 28, 2020
  39. cbd gummies July 18, 2020

Leave a Reply