Paytm money App se mutual fund mein nivesh ki jankari । पेटीएम मनी एप से म्यूचुअल फण्ड में निवेश की जानकारी

Mutual fund mein nivesh se purv dhyan rakhne yogy baaten,Paytm money App se mutual fund mein nivesh kariye, Paytm money App se mutual fund mein nivesh ki jankari, Paytm money app ke upyog ka tarika, Paytm money app ki visheshtayen, Mutual fund scheme  kya hai

paytm money app pic

 

Paytm money App se mutual fund mein nivesh ki jankari । पेटीएम मनी एप से म्यूचुअल फण्ड

में निवेश की जानकारी

हम सभी को जीवन में सुरक्षित भविष्य की गारेंटी की आवश्यकता होती है।जिसके लिए प्रत्येक व्यक्ति अपनी बुद्धि और उपलब्ध संसाधनों के आधार निवेश करता है। इन्हीं निवेश के साधनों में से एक म्यूचुअल फण्ड स्कीम है। जिसमें आज तक आप ब्रोकर्स की मदद से शेयर मार्किट में पैसा लगाते आयें हैं। किन्तु आज तकनिकी  युग में सारे काम इन्टरनेट के माध्यम से घर बैठे करने का विकल्प उपलब्ध है। इसी क्रम में 4 अगस्त 2018 को पेटीएम कंपनी द्वारा एक पेटीएम मनी एप का संचालन किया गया है। जिसके माध्यम से अब आप घर बैठे अपने एंड्राइड या आइओएस (IOS) बेस्ड स्मार्ट फ़ोन से म्यूचुअल फंड खरीद और बेच सकते हैं। इसके लिए आपको अपने स्मार्ट फ़ोन में पेटीएम मनी एप को डाउनलोड करना होगा। फिर साइन इन करके आप इस सुविधा का लाभ उठा सकेंगे। तो आइये जाने इस लेख के माध्यम से पेटीएम मनी एप द्वारा म्यूचुअल फंड में निवेश की विस्तृत जानकारी।

      पेटीएम मनी एप के उपयोग का तरीका (Paytm money app ke upyog ka tarika ):

  • सबसे पहले आपको अपने स्मार्ट फ़ोन में गूगल प्ले स्टोर के सर्च बार में Paytm Money App लिखकर सर्च करना होगा> फिर उसमें से Paytm money app के इनस्टॉल विकल्प पर क्लिक करके फ़ोन में इंस्टाल करना होगा।

  • इसके बाद open विकल्प पर क्लिक करके log in करना होगा। लॉग इन आप अपने रजिस्टर्ड ईमेल आईडी याफोन नंम्बर और  पासवर्ड की सहायता से कर सकते हैं। इसके बाद जो पेज खुलेगा उसमें दिए विकल्प में पैन कार्ड नंबर लिखने के बाद एरो पर क्लिक करना होगा। यदि आप पहली बार म्यूचुअल फण्ड में इन्वेस्ट कर रहें हैं तो आपको अपना kyc डिटेल भरना होगा । इसके बाद हीं पेटीएम मनी एप से आप म्युचुअल फंड खरीद सकेंगे।

  • फिर जो पेज खुलेगा उसमें आपको अपने  पैन कार्ड का इमेज अपलोड करना होगा।

  • इस पेज में अपना kyc (know your customer) डिटेल के लिए आपको पर्सनल डिटेल  विकल्प के सामने ऐड बटन पर क्लिक करके सारी सूचनाये जैसे -अपना पूरा नाम , जन्म तिथि , अपना पेशा और अपने माता -पिता का नाम लिखने के बाद save विकल्प पर  क्लिक करना होगा।
  • इसके बाद एड्रेस प्रूफ के लिए आधार कार्ड के आगे और पीछे दोनों तरफ का फोटो अपलोड करना होगा। और अपने घर का पता , प्रदेश का नाम, जिले का नाम , शहर का नाम एवं पिनकोड लिखने के बाद सबमिट विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • इसके बाद  नॉमिनी विकल्प के अंतर्गत आपके बाद अपके  पैसे के हकदार का नाम लिखना होगा।
  • फिर आपको अपने बैंक अकाउंट का नंबर और अपने बैंक के ब्रांच का IFSC कोड लिख  कर सबमिट विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • इसके बाद  आपकी KYC डिटेल पूरी हो जायेगी।
  • इसके बाद आपके सामने कंपनियों के नाम खुल कर आ जायेंगे आप अपनी पसंद के अनुसार कंपनी का म्युचुअल फण्ड खरीद सकते हैं।

पेटीएम मनी एप की विशेषताएं (Paytm money app ki visheshtayen) :

  • पेटीएम मनी एप के माध्यम से म्युचुअल फंड खरीदने पर 1% ज्यादा रिटर्न मिलेगा।
  • म्युचुअल फंड खरीदने  के लिए आपको किसी प्रकार का कमीशन या कोई फ़ीस नहीं देना होगा।
  • पेटीएम मनी एप में 25 बड़ी कंपनियों के ज्यादातर म्युचुअल फंड के प्लान शामिल हैं। इनके नाम हैं –  HDFC म्युचुअल फंड, आदित्य बिड़ला सन लाइफ, ICICI म्युचुअल फंड , एक्सिस म्युचुअल फंड, KOTAK म्युचुअल फंड , रिलायंस म्युचुअल फंड , SBI म्युचुअल फंड आदि।
  • इस एप के द्वारा म्युचुअल फंड खरीदने एवं बेचने के लिए किसी भी दस्तावेज़ को सबमिट करने की आवश्यकता नहीं होगी।
  • केवल  लॉग इन करने के बाद KYC कम्पलीट करना होगा और आप अपने इन्वेस्टमेंट यानि म्युचुअल फंड की खरीद और बिक्री करने की प्रक्रिया शुरू कर सकेंगे।
  • पेटीएम मनी एप  में सभी तरह के म्युचुअल फंड की स्कीम शामिल है जैसे- मिडकेप , लार्ज ,स्माल , बैलेंस्ड, डेट , टैक्स सेविंग, लिक्विड फंड आदि इसके अतिरिक्त इस एप में रिटर्न कैलकुलेटर का भी विकल्प शामिल है।

म्युचुअल फंड स्कीम क्या है  (Mutual fund scheme  kya hai) :

म्युचुअल फंड स्कीम निवेशकों से एकत्रित किये हुए कुल रकम से एक साथ कंपनियों के शेयर खरीदने और बेचने का काम करती है। ग्राहकों के रकम को निवेश करने के बदले में निवेशकों से शुल्क भी चार्ज करती हैं।

म्युचुअल फंड के प्रकार :

  • इक्विटी म्युचुअल फंड स्कीम : इस स्कीम में निवेशको के पैसे को डायरेक्ट शेयरों में निवेश किया जाता है। इसमें इन्वेस्ट करने से पहले कंपनियों के रिटर्न के प्रदर्शन को ध्यान में रखना आवश्यक होता है। छोटी अवधि के लिए इक्विटी शेयर में हानि की संभावना ज्यादा होती है। किन्तु लम्बी अवधि के लिए कम से कम 10 साल के लिए निवेश करना हो तो  इक्विटी शेयर में निवेश करना लाभदायक सिद्ध होता है। इक्विटी म्युचुअल फंड के 10 भिन्न – भिन्न प्रकार होते हैं।
  • डेट म्युचुअल फंड स्कीम :इस स्कीम में 5 वर्ष से कम अवधि के लिए निवेश करना लाभदायक होता है। इसमें पैसों के डूबने की संभावना न के बराबर होती है और ये बैंकों के फिक्स्ड डिपाजिट से अच्छा मुनाफा देती हैं। इसकी वजह हैं कि डेट स्कीम शेयरों में पैसा निवेश न करके सिक्योरिटीज में निवेश करतीं हैं। इस स्कीम में जब ब्याज दर में गिरावट आ रही हो तो निवेश करना लाभप्रद होता है।
  • हाइब्रिड म्युचुअल फंड स्कीम : ये स्कीम इक्विटी म्यूचुअल  फंड  और डेट फंड  दोनों में  निवेश करती है। हाइब्रिड म्यूचुअल फंड के भी 6 प्रकार होते हैं।
  • सोल्यूशन ओरियंटेड स्कीम :  इस प्रकार की स्कीम  किसी लक्ष्य को पूरा करने के लिए बनी  होती है। जैसे- रिटायरमेंट प्लान , बच्चों की शिक्षा का प्लान आदि। इस प्रकार के स्कीम में कम से कम पाँच वर्ष के लिए निवेश करना आवश्यक होता है।

म्यूचुअल फंड में निवेश से पूर्व ध्यान रखने योग्य बाते (Mutual fund mein nivesh se purv dhyan rakhne yogy baaten) :

  • अपने वित्तीय लक्ष्य एवं  निवेश की अवधि और फंड हाउस के प्रदर्शन का  विश्लेषण करने के बाद हीं किसी कंपनी के म्यूचुअल फंड को खरीदने का निर्णय लेना चाहिए। इसके लिए बेहतर होता है कि किसी विश्वशनीय कंपनी में निवेश किया जाय।
  • निवेश से पूर्व लक्ष्य का निर्धारण करना आवश्यक है कि आपको रिटायरमेंट , बच्चों की शिक्षा या टैक्स बचाने आदि किस उद्देश्य की पूर्ति के लिए निवेश करना है। उसी आधार पर अपनी क्षमता एवंम  निवेश की अवधि के अनुसार म्यूचुअल फंड को खरीदने का निर्णय लेना बेहतर होता है।
  • ये भी ध्यान रखना आवश्यक होता है कि फंड हाउस के रिटर्न की निति आपके लक्ष्य को पूरा कर रही है या नहीं और फंड हाउस की योजना  निवेशकों के किस उद्देश्य को पूरा करने के लिए बनायी गई है।
  • म्यूचुअल फंड कंपनी की प्रदर्शित का भी पता लगा लेना चाहिए मसलन कंपनी  को अपने निवेशकों के पैसे को शेयरों में लगाने का ब्यौरा देना चाहिए।
  • निवेश से पूर्व म्यूचुअल फंड  में निवेश से जुड़ें  खर्चे का पता लगाना आवश्यक है। क्योंकि निवेश से मिलने वाले रिटर्न पर इसका प्रभाव पड़ेगा।

अन्य योजनायें पढ़िए हिंदी में :

 

 

 

 

 

 

 

Comments

comments

Leave a Reply