म.प्र. विद्यालय उपहार योजना । MP VIDHYALAY UPHAR YOJANA


MP VIDHYALAY UPHAR YOJANA , Vidhyalay Uphar Yojana ka kriyanvayn, Vidhyalay uphar yojana kya hai , Vidhyalay uphar yojana ka uddesy, Yojana ke liye Vidhyalay ki patrta, म.प्र. विद्यालय उपहार योजना

विद्यालय उपहार योजना pic

 म.प्र. विद्यालय उपहार योजना । MP VIDHYALAY UPHAR YOJANA

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा अपने देश में  सरकारी विद्यालयों की मूलभूत आकादमिक एवं संरचना से सम्बंधित आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए विद्यालय उपहार योजना की शुरुआत की गई है। इस को “स्कूल चले हम  “अभियान 2017 के अंतर्गत प्रारंभ किया गया है। योजना के तहत मध्य प्रदेश के कक्षा 1 से 12 तक के सभी सरकारी विद्यालय अपनी आवश्यकताओं को प्रत्मिकता के आधार पर चिन्हित करेंगे। जिसके फलस्वरूप समाज की दान देने वाली संस्था , व्यक्ति अथवा समूह से उपहार लेने के लिए मान्य होंगे। ये उपहार नकद रूप में न होकर वस्तु रूप होगा। इस योजना का संचालन विद्यालय स्तर के समस्त योजना शाळा प्रबंधन समिति के माध्यम से क्रियान्वित की जायेगी। आइये जाने इस लेख के माध्यम से योजना की पूरी जानकारी।

विद्यालय  उपहार योजना क्या है (Vidhyalay uphar yojana kya hai )

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा प्रदेश में साक्षरता का प्रतिशत बढ़ाने के मुहीम के तहत गरीब बच्चों के शिक्षा की व्यवस्था की जिम्मेदारी पूरा करने के मिशन के तहत समाज की भागीदारी को सुनुश्चित किया गया है। जिसके लिए प्रदेश के सभी  सरकारी स्कूल के सर्वंगीण विकास  हेतु विद्यालय उपहार योजना की शुरुआत की गयी है। योजना का लाभ प्राप्त करने हेतु मप्र एजुकेशन पोर्टल पर सभी सरकारी विद्यालय की आवश्यकताओं की सूचि अपलोड की जायेगी। इस सूचि के आधार पर कोई भी व्यक्ति, संस्था , समूह अथवा कम्पनी  विद्यालय हित में अपना योगदान प्रदान कर सकेंगे।

विद्यालय  उपहार योजना का उद्देश्य  (Vidhyalay uphar yojana ka uddesy)

  • विद्यालयों  की मूलभूत आवश्यकताओं की सूचि तैयार करने में सहायता प्रदान करना।
  • प्रदेश के सरकारी स्कूलों की संरचनात्मक ढाँचे एवं अकादमिक  सुविधाओं का विकास करना।
  • प्रदेश के गरीब बच्चों को शिक्षित करने की जिम्मेदारी में समाज की भागीदारी को सम्मलित करना।
  • प्रदेश के सभी वर्गों को पाठशाला के कल्याणार्थ शाळा से जुड़ने हेतु मंच उपलब्ध करना।
  • सरकारी विद्यालयों को वस्तु रूप में उपहार उपलब्ध कराने के माध्यम  से सभी आवश्यक सुविधा से युक्त करना।

योजना के लिए विद्यालयों की पात्रता  (Yojana ke liye Vidhyalay ki patrta )

मध्य प्रदेश के सभी गाँव एवं शहर के कक्षा 1 से 12 तक के  सरकारी स्कूल  विद्यालय उपहार योजना के तहत सामाजिक संस्था, व्यक्ति , व्यक्ति समूह  अथवा कंपनी से वास्तु रूप में उपहार ग्रहण करने के पात्र होंगे।

विद्यालय उपहार योजना का क्रियान्वयन (Vidhyalay Uphar Yojana ka kriyanvayn)

  • योजना के तहत मध्य प्रदेश एजुकेशन पोर्टल पर प्रदेश के सभी सरकारी स्कूल अपनी आवश्यकताओं की सूचि प्रथ्मिक्कता के आधार पर सूचीबद्ध करेंगे।
  • विकास खंड स्त्रोत्र केंद्र समन्वयक कार्यालय द्वारा विद्यालयवार प्राथमिकता के आधार पर सूचि पोर्टल पर अपलोड की जायेगी।
  • योजना के तहत मध्य प्रदेश एजुकेशन पोर्टल पर एक आइकॉन उपलब्ध होगा। जिस पर क्लिक करके कोई भी संस्था , व्यक्ति , व्यक्ति समूह, ट्रस्ट, कंपनी अथवा दानदाता अपना सहयोग विद्यालय हित में अपना सहयोग वस्तु रूप में प्रदान कर सकेगा।
  • वस्तु रूप में  विद्यालय हित में सहयोग प्रदान करने वालों को विद्यालय समिति द्वारा सामग्री स्वीकृति एवं धन्यवाद पत्र प्रदान करेगी एवं उपहार देने वाले का नाम मध्य प्रदेश एजुकेशन पोर्टल पर सूचीबद्ध  किया जाएगा।

अन्य योजनायें पढ़िए हिंदी में :

राष्ट्रिय खेल प्रतिभा खोज योजना

म. प्र. मुख्यमंत्री की हम छू लेंगे आसमान योजना

म.प्र. मुख्यमंत्री की रोज़गार की पढ़ाई चलें आईटीआई मिशन

 

 

 

 

Comments

comments

Leave a Reply