Kendra Sarkar ki Shala Asmita yojana (SAY) । केंद्र सरकार की शाला अस्मिता योजना

SHALA ASMITA Yojana ka kriyanvayn,शाला अस्मिता योजना , SHALA ASMITA Yojana, SHALA ASMITA Yojana ka uddeshy, SHALA ASMITA Yojana kya hai , Kendra Sarkar ki Shala Asmita yojana (SAY)

SAY YOJANA PICS

Kendra Sarkar ki Shala Asmita yojana (SAY) । केंद्र सरकार की शाला अस्मिता योजना

केंद्र सरकार की शाला अस्मिता योजना दुनिया की सबसे बड़ी छात्रों के मोनिटरिंग की योजना है। इस योजना का संचालन केन्द्रीय मानव संसाधन मंत्रालय द्वारा 3 जून 2017 को किया किया गया है। देश के भविष्य विद्यार्थियों के शिक्षा गतिविधयों एवं विद्यालयों में उपलब्ध संसाधनों के उचित उपयोग की निगरानी के लिए केंद्र सरकार द्वारा किया गया यह एक सराहनीय पहल है। इस योजना के माध्यम से देश भर के सरकारी एवं प्राइवेट विद्यालयों के कक्षा 1 से 12 वीं कक्षा के छात्रों के शिक्षा सम्बन्धी गतिविधयों को ट्रैक किया जा सकेगा। इस योजना के माध्यम से सरकारी स्कूलों की शैक्षिक गुणवत्ता में सुधार होने की संभावना है। आइये जाने इस लेख के माध्यम से शाला अस्मिता योजना की जानकारी।

शाला अस्मिता योजना क्या है (SHALA ASMITA Yojana kya hai ):

अस्मिता का पूरा अर्थ है All School Monitoring Individual Tracing Analysis अर्थात यह योजना सभी स्कूलों एवं विद्यार्थियों के गतिविधियों के विश्लेषण पर नज़र रखने का कार्यक्रम है। इस योजना के माध्यम से देश के 15 लाख सरकारी और निजी स्कूलों के करीब 25 करोड़ विध्यार्थियों की शैक्षिक योग्यता का रिकॉर्ड रखा जाएगा।  इस योजना का क्रियान्वयन स्थानीय प्राधिकारी द्वारा किया जाएगा।

 शाला अस्मिता योजना का उद्देश्य (SHALA ASMITA Yojana ka uddeshy) :

  • इस योजना का उद्देश्य सरकारी स्कूलों में अध्यापको एवं प्रधानाचार्य की अनुपस्थिति एवं कक्षा में विद्यार्थियों की शिक्षा में ध्यान न देने की समस्या को दूर करने के प्रयास हेतु उठाया गया एक महत्वपूर्ण कदम है।
  • मोनिटरिंग के जरिये विद्यार्थियों के स्कूल की पढ़ाई बीच में हीं छोड़ देने के कारणों का समाधान करना है।
  • स्कूलों में भ्रष्ट अध्यापकों द्वारा  छात्राओं के अस्मिता से खिलवाड़ करने की गतिविधियों पर नज़र बनाए रखना है। जिससे छात्राओं को सुरक्षित शैक्षिक वातावरण उपलब्ध हो सके।
  • शाला अस्मिता योजना के माध्यम से सरकारी स्कूलों में मिड दे मील में गड़बड़ी की शिकायत की समस्या को भी हल करने में मदद मिलेगी।
  • स्कूलों में उपलब्ध शक्षिक संसाधनों का भी जायजा लिया जा सकेगा।
  • योजना के माध्यम से देश भर के स्कूलों के विद्यार्थियों के व्यक्तिगत शैक्षिक प्रदर्शन का रिकॉर्ड रखा जाएगा। जिससे छात्र/छात्राओं के विषयों में रूचि से सम्बंधित योग्यता को परखने में मदद मिलेगी।

 शाला अस्मिता योजना का क्रियान्वयन (SHALA ASMITA Yojana ka kriyanvayn) :

  • योजना के तहत विद्यार्थियों की गतिविधियों पर नज़र बनाए रखने के लिए उनके आधार कार्ड नंबर का प्रयोग किया जाएगा।
  • जिन विद्यार्थियों के पास आधार कार्ड नहीं होगा उन्हें यूनिक आइडेंटिटी नम्बर (UIN) स्कूलों के माध्यम से उपलब्ध कराया जाएगा। इन्हीं नंबर के आधार पर विद्यार्थियों की उपस्थिति- अनुपस्थिति का विवरण रखा जाएगा।
  • योजना का संचालन केंद्र सरकार एवं राज्य सरकार के सम्मलित प्रयास से किया जाएगा।
  • स्कूलों और विद्यार्थियों के ट्रेसिंग के कार्य को अंजाम देने के लिए स्थानीय प्राधिकारी को कार्यभार सौंपा जाएगा।

शाला अस्मिता योजना से सम्बंधित अधिक जानकारी के लिए इस लिंक का प्रयोग करिए  मानव संसाधन विकास मंत्रालय  

अन्य योजनायें पढ़िए हिंदी में :

 

 

Comments

comments

Leave a Reply