Digital Village Project । डिजिटल गाँव प्रोजेक्ट

Digital Village Project,   Digital Village Project  kya hai,डिजिटल गाँव प्रोजेक्ट, पायलेट डिजिटल विलेज प्रोजेक्ट की विशेश्ताएं

digital project pic

 

Digital Village Project । डिजिटल गाँव प्रोजेक्ट

प्रधानमंत्री मोदी के डिजिटल इंडिया के सपने को साकार करने में सबसे बड़ी बाधा देश के गांवों एवं बीहड़ इलाकों में इन्टरनेट की सुविधा का आभाव होना है। इस बाधा को दूर करने के लिए केंद्र सरकार एक हज़ार से ज्यादा ग्राम पंचायतों को फ्री वाईफाई हॉटस्पॉट की सुविधा उपलब्ध कराने के लिए डिजिटल विलेज  योजना का शुभारम्भ करने जा रही है।इस योजना को प्रारंभ में 1050 गांवों में पायलट प्रोजेक्ट के रूप में शुरू किया जाएगा।

यह प्रोजेक्ट इलेक्ट्रॉनिक्स एंड इनफार्मेशन टेक्नोलॉजी मिनिस्ट्री के तत्वाधान में पब्लिक-प्राइवेट साझेधारी के मॉडल के रूप में कॉमन सर्विस सेंटर (CSC) के द्वारा विभिन्न इन्टरनेट सेवा प्रदान करने वाली कंपनियों के साथ मिलकर संचालित किया जाएगा। गाँवों में सीएससी इन्टरनेट से सम्बंधित सभी सुविधाएं जैसे –  सरकारी सेवाओं से सम्बंधित ड्राइविंग लाइसेंस , राशन कार्ड , वोटर आईडी कार्ड, आधार कार्ड, बैंक अकाउंट खोलना आदि के लिए  फॉर्म फिलिंग करने एवं ऑनलाइन पेमेंट जैसी सुविधाओं का लाभ गाँव वालों को प्रदान करेंगे। जिससे डिजिटल इंडिया का प्रचलन गाँवों में भी हो सके। तो आइये जाने इस लेख के माध्यम से डिजिटल विलेज प्रोजेक्ट की जानकारी।

डिजिटल गाँव प्रोजेक्ट क्या है (Digital Ganv Project kya Hai) :

भारत सरकार के इलेक्ट्रॉनिक और  सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय  द्वारा  डिजिटल इंडिया की परिकल्पना के तहत गाँवों को शामिल करने के लिए डिजिटल विलेज प्रोजेक्ट तैयार किया जा रहा है। इस योजना के तहत 1,000 से भी ज्यादा गाँवों निशुल्क इन्टरनेट की सुविधा प्रदान करने, के अतिरिक्त इन्टरनेट के प्रयोग से  स्वास्थ , शिक्षा , सरकारी योजनाओं एवं बैंकों से सम्बंधित ऑनलाइन फॉर्म भरने आदि की सुविधा, ग्रामवासियों को कॉमन सर्विस सेण्टर के माध्यम से सुलभ कराया जायेगा। डिजिटल विलेज प्रोजेक्ट को शुरुआत में लगभग 1050 ग्राम पंचायतों में फ्री हॉटस्पॉट वाईफाई की सुविधा मुहैया कराने के लिए, पब्लिक – प्राइवेट मॉडल पर कॉमन सर्विस सेंटर के जरीये, पायलेट प्रोजेक्ट के रूप में शुरू किया जाएगा।

 पायलेट डिजिटल विलेज प्रोजेक्ट की विशेश्ताएं (Digital Village ki Visheshtaayen) :

  • एलईडी स्ट्रीट लाइटिंग एवं वाईफाई हॉटस्पॉट की सेवा : डिजिटल ग्राम पायलेट प्रोजेक्ट के अंतर्गत ग्राम पंचायत में सार्वजानिक स्थान पर एक उच्च क्षमता वाली एलईडी लाईट का टावर स्थापित किया जाएगा। जिससे गाँवों में सार्वजानिक स्थानों पर रात भर प्रकाश किया जा सके। इसके अतिरिक्त गाँवों में कम से कम 5 घंटे फ्री इन्टरनेट की सुविधा प्रदान की जायेगी।
  • टेली मेडिसिन की सेवा : इस सेवा के तहत प्राथमिक स्वास्थ केंन्द्रों के समूह का एक ख्याति प्राप्त अस्तपताल होगा।  जो गाँव के सबसे करीब के प्राथमिक स्वास्थ केंद्र (PHC) से जुड़ा रहेगा। जिसके माध्यम से स्वास्थ सम्बन्धी समस्याओं के लिए परामर्श के सत्र का आयोजन ऑनलाइन किया जाएगा। जिससे ग्रामवासी इन्टरनेट की सहायता रोगों के निदान का परामर्श एवं औषधि प्राप्त कर सकेंगे।
  • दूर शिक्षा सेवाएँ : इसके अंतर्गत गाँवों के शिक्षा केन्द्रों के समूह को एक बड़े विख्यात स्कूल से जोड़ जोड़कर इन्टरनेट के माध्यम से शिक्षा सत्र का आयोजन किया जाएगा। जिससे गाँव के स्कूलों में शिक्षा लेने के अतिरिक्त बच्चे इन्टरनेट के माध्यम से शिक्षा का लाभ प्राप्त कर सकेगे।
  • कौशल विकास सेवा : गाँवों में उपलब्ध संसाधनों के उपयोग की जानकारी तथा प्रशिक्षण के लिए इन्टरनेट के माध्यम से परामर्श सत्र का आयोजन किया जाएगा।

अन्य योजनायें पढ़िए हिंदी में :

 

Comments

comments

Leave a Reply